सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ias vs Army दोनों में ताकतवर कौन है?

आईएस और भारतीय सेना दोनों ही राष्ट्रपति के अधीन होते हैं|आईईएस सिविल से जुड़ा होता है आईएएस को सिविल क्षेत्र में कानून का बनाए रखना होता है| वही भारतीय सेना काम होता है देश को बाहरी दुश्मनों से बचाना दोनों ही अपने जगह पर ताकतवर होते हैं|जो आईएएस कि सिविल सेवा एग्जाम पास कर के बनते है| वही भारतीय सेना एनडीए और सीडीएस के द्वारा आर्मी में ज्वाइन होते हैं| तो आइए जानते हैं विस्तार से कौन ज्यादा ताकतवर होते हैं? 

1. आईएएस का क्या काम होता है? 

 सरकार की नीतियों को लागू करना  और उनका पालन करवाना मुख्य रूप से आईएस का काम होता है। जिले में आईएस जिला मजिस्ट्रेट, कलेक्टर यह कमिश्नर हो सकता है। इसके अलावा पद बढ़ने पर कैबिनेट सेक्रेटरी, ज्वाइंट सेक्रेट्री, अंडर सेक्रेट्री और डिप्टी सेक्रेटरी आदि पद भी मिलते हैं| भारत में  नौकरशाही का टॉप पद कैबिनेट सचिव होता है| जो संसद के प्रति जवाबदेह होता है|

2. आईएएस कैसे बनते हैं? 

आईएएस बनने के लिए हमें ग्रेजुएशन करना अनिवार्य होता है|उसके बाद यूपीएससी की परीक्षा पास करनी पड़ती है| जो कि तीन चरण में होती है प्रिलिम्स मेंस और  इंटरव्यू यह सब पूरा करने के बाद आप आईएएस बन  जाते हैं|

3. आर्मी का क्या काम होता है? 

किसी भी देश में सेना का बड़ा योगदान रहता है|भारतीय सेना देश की रक्षा करते हैं|अगर देश में सेना ना हो तो वह देश नहीं गुलाम बन जाता है|भारतीय सेना काम है अपनी भारत माता की रक्षा करना जरूरत पड़ने पर युद्ध करना भारतीय सेना अपने आप में बहुत बड़ी बात होती है|

4. आर्मी कैसे बनते हैं?                   आर्मी हम लोग तीन तरह से बन सकते है।आर्मी दो रैंक के होते हैं।पहला ऑफिसर रैंक के दूसरा सिपाही रैंक के, सिपाही के लिए सीधी भर्ती होती है।जिसमें पहला उनका दौर होता है|और कुछ फिजिकल टेस्ट होते हैं फिर दूसरे चरण मैं मेडिकल होता है|और उसके बाद परीक्षा होता है|ऑफिसर रैंक आर्मी हम 2 तरीके से बन सकते हैं|पहला एनडीए जो 12 अपीयरिंग करते समय एग्जाम दे सकते हैं| एनडी का साल में दो बार एग्जाम होता है| इसमें पहला परीक्षा होता है, दो चरण में उसके बाद एसएसबी इंटरव्यू होता है |5 दिन के लिए और अंत में मेडिकल होता है |एन डी ऑफिसर बनने के लिए आपकी उम्र 16 साल से 20 साल तक होनी चाहिए| और दूसरा सीडीएस के द्वारा हम आर्मी ऑफिसर बन सकते हैं।सीडीएस जो की ग्रेजुएशन लेवल की परीक्षा होती है। जिसमें आदमी की उम्र 20 साल से 25 साल तक होनी चाहिए। साल में सीडीएस के 2 बार परीक्षा होती है जिसमें 3 चरण होते हैं। पहला लिखित परीक्षा होती है। जिसमेंं 2 पेपर होते फिर उसके बाद एसएसबी इंटरव्यू होते हैं एसएसबी इंटरव्यू पूूरा करने के बाद लास्टट में मेडिकल होती है। 

5. आईएएस बनने के लिए क्या योग्यता चाहिए? 

 आईएएस बनने के लिए उम्मीदवार को ग्रेजुएशन करना अनिवार्य है।उम्मीदवार मूल रूप सेेेेे भारतीय होना चाहिए।आईएस उम्मीदवार  समान वर्ग वाले के लिए 21 साल से 32 साल तक  ओबीसी के लिए 21 साल से 35 साल तक  और एससी एसटी के लिए 21 साल से 38 साल तक परीक्षा दे सकते हैं|

6. आर्मी बनने के लिए क्या          योग्यता चाहिए? 

आर्मी में दो तरह के रैंक होते हैं।आर्मी में हमें 3 तरह से जा सकते हैं।पहला सीधी भर्ती इसमेंंं उम्मीदवार को जाने के लिए उसकी उम्र 18 साल से 25 साल तक होनी चाहिए। उसकी योग्यता 10 और 12 पास होनी चाहिए।उसकी लंबाई कम से कम 170 सेंटीमीटर होली चाहिए|

 और दूसरे आर्मी ऑफिसर के तौर पर जिसमें NDA और CDS आते है।NDA से जाने के लिए उम्मीदवार को 16 साल से 20 साल तक होना चाहिए।उसकी योगिता 12वीं पास होनी चाहिए। वह उम्मीदवार इंडियन होना चाहिए। और उसे मेडिकल फिट होनी चाहिए दूसरा सीडीएस बनने के लिए उम्मीदवार को ग्रेजुएशन होना अनिवार्य है। उसकी उम्र 20 साल से 25 साल तक होनी चाहिए और बाकी यह एनडीए की तरह ही है। 

7. आईएएस की सैलेरी कितनी होती है? 

आईएएस की सैलरी उसकी पोस्ट के हिसाब से मिलती है जिसमें जिला के अधिकारी राज्य सचिव और देश के सचिव की सैलरी बराबर होती है|

1.sdm or under secretary or asst                   secreatry-56100

2. Adm or deputy secretary or under            secretary-67700

3.Dm or joint secreatry or deputy                  secretary-78800

4.Dm or special secreatry cum director         or director-118500

5. Divisional commissioner or secreatry      cum commissioner or joint secreatry-      144200

6.divisonal commissioner or principal       secreatry or additional secreatry-             182200

7.additional chief secreatry-205400

8.cheif secreatry or secreatry-225000

9.cabinet secretary-250000

8. आर्मी ऑफिसर की सैलरी        कितनी होती है?

आर्मी ऑफिसर 7th पे कमिशन लागू होने पर उनकी शिर्डी में जाता हुआ है आर्मी की सैलरी कुछ इस प्रकार है|

Lieutenant-56,100

Captain-61,300

Major-69,400

Lieutenant colonel- 121,200

Colonel-130,600

Brigader-139,600

Major general-144,200

Lieutenant general-182,200

General-250,000

इसमें एलाउंसेस लगने पर आर्मी  की सैलरी और बढ़ जाती है। 

9. क्या आर्मी ऑफिसर को सिविल में ताकत मिलती है या नहीं? 

आर्मी ऑफिसर अपने बेस से सिविल लाइफ में आते हैं| तो भारत की आम नागरिक की तरह होते हैं| उन्हें सिविल लाइन में कोई भी ताकत नहीं मिलती है| आर्मी अपने  अपने   बेस में बहुत ताकतवर होते हैं ना कि सिविल लाइफ में। उन्हें समाज में आम नागरिक की तरह रहना पड़ता है।

10. आईएएस vs आर्मी रैंक? 

आईएएस ऑफिसर के रैंक 3 लेवल पर होती है पहला डिस्ट्रिक्ट लेवल दूसरा स्टेट लेवल दिशा नेशनल लेवल पर

जिला स्तर पर

Sdm<>adm<>dm<>dm<>divisional commissioner

राज्य स्तर पर

Under secreatry<>deputy secretary<>joint secretary<>special secreatry cum director<>secreatory<>cum commissioner<>principal secreatry<>additional secretary<>chief secretary

देश स्तर पर

Asst secreatry<>under secreatry<>deputy secretary<>director<>joint secretary<>secreatry<>secreatry<>cabin-et secretary

 आर्मी रैंक कुछ इस प्रकार है|

Lieutenant<>captain<>major<>lieutenant colonel<> colonel<>brigadier<>major general<>lieutenant general<>general

11. क्या  आर्मी ऑफिसर ias को सलूट करते हैं? 

आर्मी ऑफिसर से अपने बड़े अधिकारी को सलाम करते हैं| और सिर्फ राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को उसके अलावा और मैं उसे किसी को सलाम नहीं करते हैं|

12. आईएएस और आर्मी में किसकी लाइफ स्टाइल अच्छी होती है? 

अगर हम फैमिली लाइफस्टाइल की बात करें तो आर्मी से कई गुना बढ़िया लाइफ स्टाइल आईएस की होती है। वह अपने परिवार के साथ समाज में रह सकते हैं। अगर हम  प्रोफेशनल लाइफ स्टाइल की बात करते हैं। तो आर्मी आईएस से बहुत बढ़िया होता है उनके साथ  पूरा देश खड़ा होते हैं। 

13. दोनों में कौन ज्यादा ताकतवर होते हैं? 

दोनों अपने जगह पर ताकतवर होते हैं|सिविल क्षेत्र में आईएस पावरफुल होता है| वह पूरे जिले की प्रशासन का हेड होता है।  जरूरत पड़ने पर आईएस ऑफिसर कानून को अपने हाथ में ले सकते हैं। अब बात करेंगे की आर्मी के पावर क्या है। जब कोई परिस्थितियां पुलिस के नियंत्रण से बाहर हो जाती है। तो आर्मी को बुलाया जाता है।जब कोई अनुमति के बिना क्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश करता है। तो उस पर आर्मी को गोली चलाने का पूरा अधिकार होता है। ऐसा कुछ उदाहरण सामने आए हैं,कि आईएस ने मदद के लिए आर्मी को बुलाया लेकिन वह जॉब प्रोफाइल संबंधित ना होने के कारण उन्होंने इंकार कर दिया और आईएस उनका कुछ नहीं कर पाया।कोई मिनिस्टर या आईएएस ऑफिसर डायरेक्ट आर्मी ऑफिसर या उनकी बटालियन में कमांड नहीं दे सकता है। तो आप समझ गई कि कौन ज्यादा पावरफुल है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

NRI का मतलब क्या होता है?NRO,FCNR,NRE account क्या होता है?

जो लोग इंडियन है और वह दूसरे देश में रहते हैं । उन्हें तीन ग्रुप में बांटा गया है। NRI, PIO, and OCI तो आइए जानते हैं-NRI, PIO, OCI और, fema act क्या है? 1.NRI क्या होता है?  NRI उसे कहा जाता है जो 6 महीने से ज्यादा के लिए भारत छोड़कर विदेश गए हो एजुकेशन purpose से, job purpose से या किसी अन्य purpose से तो उसे NRI कहा जाता है।  2. NRI  का full form  क्या होता है?  NRI का full form non-resident Indian होता है।  3.NRI लोगों से देश को क्या फायदा होता है?  NRI लोग भारत देश की economy बनाए रखने में बहुत योगदान देती है। NRI लोग भारत से बाहर काम करते हैं। मेहनत करके के पसीना बहाते हैं और उन्हें जो बाहर इनकम होता है। वह पूरा पैसा भारत भेज देते हैं। अटल बिहारी वाजपेई का वक्त याद कीजिए जब 1998 में अमेरिका के लाख मना करने के बावजूद अटल बिहारी वाजपेई ने परमाणु परीक्षण किया था। तब अमेरिका ने भारत पर प्रतिबंध लगा दिया था कि भारत से कोई व्यापार नहीं करेगा ना उसे कोई सामान खरीदेगा।तब हमारी अर्थव्यवस्था बर्बाद होने की कगार पर थी ,लेकिन यह 5500000 n.r.i. लोग जो थे ।जो विदेश में अमेरिका,कनाडा, कतर ,सऊदी

क्या होती है zero fir,fir और charge sheet

 जितनी भी क्राइम होते हैं। वह दो तरह के क्राइम होते हैं। एक है कॉग्निजेबल क्राइम। दूसरा है नन -कॉग्निजेबल क्राइम। नन -कॉग्निजेबल क्राइम में नार्मल रिपोर्ट लिखी जाती है। शॉर्टकट में इसे एनसीआर और बिहार में सना बोला जाता है। उदाहरण के तौर पर ले तो जैसे किसी का मोबाइल चोरी हो गई है। जिसमें आपकी सिम कार्ड थी। जिससे आपका मिस यूज हो सकता था। जब हम मोबाइल चोरी होने की रिपोर्ट लिखवाते है ,तो इस मामले में पुलिस उतनी गंभीरता से जांच नहीं करती है 90 दिन के अंदर पुलिस अपने सीनियर अधिकारी को कहती है, यह मामला नॉर्मल था इसको छोड़ देते हैं और रिकॉर्ड में इसका यूज रख देते हैं।एनसीआर लिखने के बाद अगर कोई मिस यूज होता है ,तो उसका जिम्मेदार यह आदमी नहीं होगा।  1. कॉग्निजेबल क्राइम क्या होता है?  वैसा अपराध जिसमें अपराधी जगन अपराध किया होता है ।जैसे हत्या, लूट, डकैती ,रेप ,धमकी देना तो इसे हम लोग को कॉग्निजेबल क्राइम कहते हैं, और इसके लिए एफ आई आर लिखा जाता है और चार्ज शीट तैयार किया जाता है।  2.fir क्या होता है?  जब अपराधी बड़े क्राइम करते हैं ,तो उसके लिए पुलिस रिपोर्ट लिखती है। जिसे हम लोग f.i.r. कहते

सऊदी अरब ने खत्म कर दिया कपाला कानून, इसमें भारत के लिए खुशखबरी क्या है?

सऊदी अरब ने एक अपने कानून को खत्म किया है! जिसका नाम है कपाला कानून जिससे भारत को बहुत ही ज्यादा फायदा हुआ है। भारत के बहुत वर्कर गल्फ country में काम करते हैं। जिससे बाहर के देशों का पैसा अपने देश में आता है और भारत देश की economy grow करती है। सऊदी अरेबिया जैसे गल्फ कंट्री में पेट्रोलियम का भंडार है,लेकिन करोना के कारण इस पर बहुत बुरा असर पड़ा है। जिसके कारण पूरे देश की और खास करके सऊदी अरेबिया जैसे गल्फ कंट्री देशों की अर्थव्यवस्था पूरी तरह खराब हो चुका है। तो सऊदी अरबिया ने अपनी अर्थव्यवस्था को सही करने के लिए मैन्युफैक्चरिंग हब लगाना शुरू किया है। जिसमें कि वर्कर को सुविधा देने के लिए काफला कानून को खत्म किया कर दिया गया है । कपाला कानून के तहत भारतीय मजदूरों को शोषण किया जाता था। तो आइए जानते हैं विस्तार से कफाला कानून क्या है भारत को इससे क्या फायदा होगा?  1. कफाला कानून क्या है?   कफाला काम को हम एक उदाहरण के तौर पर समझते हैं। जैसे कि मान लीजिए एक आदमी है। जो अपने देश भारत से सऊदी अरबिया में जाता है काम करने के लिए लेकिन वह सीधे सऊदी अरबिया नहीं जा सकता है काम करने के लिए बल्कि